अर्थव्यवस्था

क्या क्रिप्टो करंसी अब एक हकीकत है

BY,गिरीश मालवीय

भारत के संदर्भ में कुछ सालों पहले तक क्रिप्टो करंसी जैसे बिटकॉइन आदि को कोई सीरियस ढंग से नही लेता था लेकिन अब स्थितिया बहुत बदल गयी है अब क्रिप्टो करंसी एक वास्तविकता है, सरकार इसके जनसामान्य में चलन को बहुत दिनों तक रोक नही पाएँगी

आपको याद होगा कुछ दिन पहले वित्त मंत्रालय ने एक वक्तव्य जारी कर कहा कि क्रिप्टो करेंसी या आभासी मुद्रा वैध नहीं है। देश में सरकार या किसी भी नियामक ने किसी भी एजेंसी को वर्चुअल करेंसी के लिए लाइसेंस नहीं दिया है। जो लोग इसका लेनदेन कर रहे हैं, उन्हें इसके जोखिम के बारे में सजग रहना चाहिए

लेकिन कल एक बहुत मजे की बात सामने आयी हैं भारत सरकार को वेनेजुएला की सरकार ने 30 फीसदी रियायत पर कच्चा तेल निर्यात करने की पेशकश की है बस शर्त यह है कि भारत को उसकी नई ब्लॉक चेन तकनीक आधारित मुद्रा ‘पेट्रो’ खरीदनी होगी, पेट्रो पहली ऐसी आभासी मुद्रा (क्रिप्टो करेंसी) है, जिसे किसी देश ने आधिकारिक तौर पर शुरू करने की पहल की है

आपको आश्चर्य होगा कि वेनेजुएला में दुनिया का सबसे बड़ा तेल भंडार है , सऊदी अरब से भी कही ज्यादा लेकिन वह तेल पंप करने में असमर्थ है.वैसे देखा जाए तो 30 प्रतिशत रियायत कम नही होती यदि भारत इस ऑफर को स्वीकार कर ले तो विश्व मे इस डील से तेल के दाम अच्छे खासे गिर सकते हैं और जनता को भी फायदा हो सकता हैं यह ऑफर बताता है कि भारत के अलावा समूचा विश्व इन क्रिप्टो करंसी को लेकर बेहद आशावादी हैं

भारत को जल्द ही क्रिप्टो करंसी को मान्यता देनी होगी दुनिया में बिटकॉइन जैसी करीब 1500 क्रिप्टो करंसी हैं पर सबसे ज्यादा बिटकॉइन ही लोगो की जुबान पर है आस्ट्रेलिया जर्मनी अमेरिका में इसे आसानी से स्वीकार किया जाता है, जापान में नए नियम से जापान में रिटेलरों को बिटकॉइन लेने की इजाजत मिल गई. यही वजह है कि बिटकॉइन से होने वाले कुल व्यापार में 40 प्रतिशत हिस्सा जापान का है, अन्य बड़े यूरोपीय देशो में भी इसे पसन्द किया जाता है

बिटकॉइन दुनिया भर में मनी लॉन्ड्रिंग का सबसे सेफ तरीका है. आप हिंदुस्तान में बैठे-बैठे अपने अकाउंट के पैसे बिटकॉइन वॉलेट में डाल सकते हैं. और किसी भी टैक्स हैवेन देश में जाकर उन्हें डॉलर में बदल सकते हैं.

बिटकॉइन को अभी तक किसी भी जगह आधिकारिक स्वीकृति नहीं मिली है. लेकिन इसका आधिकारिक स्वीकृति नही मिलना ही इसकी बढ़ती ताकत की एक वजह है इस वजह से बिटकॉइन में लेन-देन करने पर कोई चार्ज नहीं लगता है और इसका नियंत्रण सिर्फ खरीदने और बेचने वाले के पास होता है. इस कारण हवाला और कालेधन के लेनदेन में भी बिटकॉइन का काफी इस्तेमाल होता है

आप चौकिएगा मत पर यह सच है कि भारत मे आईपीएल का सट्टा सबसे अधिक बिटकॉइन में ही खेला जा रहा है, ओर पिछले दिनों देखने मे आये कैश क्रंच की यह भी एक संभावित वजह हो सकती है, भारत मे जो भी बड़े आर्थिक अपराध होते हैं वो सबसे पहले गुजरात मे पकड़ में आते हैं सूरत और अहमदाबाद इस सट्टे के गढ़ है बिटकॉइन वहाँ कितना कॉमन होता जा रहा है इस बात का अंदाज़ा आप इसी से लगा लीजिए कि सूरत के एक बिल्डर ने आरोप लगाया कि सीबीआई के इन्स्पेक्टर सुनील नायर ने उससे 5 करोड के बीटकोइन अपने खाते में ट्रांसफर करा लिए व 70 लाख से अधिककी नकदी भी छोडने के बदले वसूल ली। अमरेली के एसपी जगदीश पटेल व निरीक्षक अनंत पटेल को इसकी जानकारी मिली तो उन्होंने भी शैलैष को गिरफ्तार कर अमरेली ले गई तथा वहां उससे 12 करोड के बीटकोइन अपने खाते में जमा करा लिए

शैलेष का आरोप है कि उसे पुलिस व सीबीआई के अधिकारियों ने गैरकानूनी तरीके से बंधक बनाकर रखा तथा उसके खाते में जमा बीटकोइन भी ट्रांसफर करा लिए। शैलेष का आरोप है कि उसे सीबीआई अधिकारी ने सरकारी कार्यालय के बजाए गांधीनगर चिलोडा के पास एक निजी केशव फार्म पर ले जाकर धमकी दी तथा उसके पास से बीटकोइन ट्रांसफर कराए व नकदी भी छीन ली

यह बात पीएमओ तक भी पुहंची ओर मामले की जांच सीआईडी क्राइम को सौंप दी गयीं

लेकिन रिश्वत ही नही हर तरह के काले धंधे में लगे लोग इस मुद्रा का सहज इस्तेमाल कर रहे हैं जैसे ड्रग्स का कारोबार भी बिटकॉइन में फलफूल रहा है क्रिप्टो करंसी से ड्रग्स की ऑनलाइन खरीद-फरोख्त अब एंटी नारकोटिक्स एजेंसियों के लिए नया चैलेंज है। यह खुलासा नारकोटिक कंट्रोल ब्यूरो की एक रिपोर्ट में हुआ क्रिप्टो करंसी से ड्रग्स की खरीद बढ़ने की कई वजह हैं। जैसे- ड्रग्स हासिल करने के लिए लोगों को आपराधियों या ड्रग्स तस्करों से संपर्क नहीं करना पड़ता है। इसी वजह से जांच एजेंसियों को उन पर कार्रवाई करने में परेशानी आ रही है

कुल मिलाकर यदि देखा जाए तो सरकार को इस विषय मे बहुत फूंक फूँक के कदम उठाने होंगें क्रिप्टो करंसी अब अब तेजी से दुनिया मे अपनी जगह बनाती जा रही है

Comments
To Top